spiritual quotes in hindi

कर्म तेरे अच्छे हैं तो किस्मत तेरी दासी है। नियत तेरी अच्छी है तो घर मे मथुरा काशी है।

जैसे पक्के हुए फलों को गिरने के सिवा कोई भय नहीं, वैसे ही पैदा हुए मनुष्य को मृत्यु की सिवा कोई भय नही।

आपका खुश रहना ही आपके , दुश्मनो के लिए सबसे बड़ी सजा है।

अविश्वसनीय चीजें आसानी से की जा सकती है, यदि हम उन्हें करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।सद गुरु जग्गी वासुदेव

मन से परे कौन हो सकता है? जिसने मन को जीता हो वह।

जब तक आप अपने आप पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वास नहीँ कर सकते -–स्वामी विवेकानंद

ज्ञानी कभी कुछ त्यागता नही, जो ब्यर्थ है , वह छूट जाता है। अज्ञानी त्यागते हैं क्योंकि त्याग उन्हें कष्टपूर्ण है।ओशो

मैं सारे जीव और निर्जीव में निवास करता हूं। जो सर्वत्र मुझे देखता है और महसूस करता है वह मुझे समझ सकता है और मुझ तक सकता है।श्रीकृष्ण। गीता

साईं इतना दीजिये जा में कुटुम्ब समाय   मैं भी भूखा रहूँ, साधु ने भूखा जाय कबीर वाणी

स्वर्ग और नर्क तुम्हारी ही भाव दशाएं हैं। और तुम ही निर्माता हो , तुम ही मालिक हो।ओशो

ज्ञान स्वयमेव वर्तमान है , मनुष्य केवल उसका अविष्कार करता है।स्वामी विवेकानंद

एक समय आता है जब मनुष्य अनुभव करता है कि थोड़ी सी मनुष्य की सेवा करना लाखों जप ध्यान से कही बढ़कर है।स्वामी विवेकानंद

इच्छाओं का कभी अंत नही होता, अगर आपकी एक इच्छा पूरी होती है तो दूसरी तुरंत जन्म ले लेती है।बुद्ध

एक निश्चित बिंदु के बाद पैसे का कोई अर्थ नही रह जाता।अरस्तु

मनुष्य के सभी कार्य इन सातों में से एक या अधिक वजहों से होते हैं : मौका , प्रकृति , मजबूरी, आदत, कारण, जुनून, इच्छा।अरस्तु

शिक्षा की जड़ें कड़वी होती है लेकिन फल मीठे होते है।अरस्तु

कुंठा, निराशा  और अवसाद का मतलब है कि आप अपने खिलाफ काम कर रहे हैं।जग्गी वासुदेव

कितना अच्छा होता कि अगर ये दुनिया छोटे बच्चोँ द्वारा चलाई जाती , क्योंकि ये किसी और कि तुलना में जीवन के ज्यादा करीब होते हैं।-–-सद्गुरु जग्गी वासुदेव

खुशी , शान्ति और प्रेमये कोई आध्यात्मिक लक्ष्य नही है। यह सब तो समझदारीपूर्वक जीने की शुरुवात है।सद्गुरु जग्गी वासुदेव

फल की अभिलाषा छोड़ कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।भागवत गीता

छोटे मन से कोई बड़ा नही होता, टूटे मन से कोई खड़ा नही होताअटल बिहारी वाजपेयी

देश एक मंदिर है, हम पुजारी है। राष्ट्रदेव की पूजा में हमें अपने को समर्पित कर देना चाहिए।अटल बिहारी